चाय

मुझे  चाय  बनाना  इस  दुनिया  के  सबसे  कठिन  और  अहम्  कार्यों   में  से  एक  लगता  है . अब चाय बनाना कोई खेल थोड़े ही है . इसके लिए जिस  कुशलता और विज्ञान की आवश्यकता है, उसे समझने में सालों साल लग जाते हैं!

यूँ तो फर्ज़ी  चाय  कोई भी तैयार कर ले और कोई गैर ज़िम्मेदार उसे पी कर संतुष्ट भी हो जाये, पर जिन्हें असली और बढ़िया चाय की पहचान हो, वो उसे बनता देख ही पीने से इनकार कर देंगे ! और अगर, कभी मजबूरी में, पीनी भी पडे, तो उनके चेहरे पर उनकी तकलीफ साफ़ झलकेगी.

इसीलिए मैं अच्छी चाय बनाने वालों का  बहुत आदर  करती हूँ, क्यूंकि वे मेरी नज़रों में महान हैं और सच्चे समाज सेवक हैं.

कितनी बीमारियाँ, सर दर्द, दुःख इत्यादि का तोड़ है चाय! बस जाइये, इत्मिनान से दूध , इलाइची और अदरक को चाय पत्ती संग उबलते देखिये, ग्लास में परोसने तक सब्र कीजिये और फिर एक एक घूँट आँखें बंद कर के लीजिये. आप सब कष्ट भूल जायेंगे, गाने गुनगुनायेंगे और बेहतरीन अविष्कार कर दिखलायेंगे. यूँ तो चाय अपने आप में ही इतनी नायाब है कि किसी और चीज़ की ज़रुरत नहीं पर आप चाहें तो साथ में फेनी, बन आदि भी  खा सकते हैं, और बरसात हो तो पकोड़े. पर अगर चाय ही न हो तो फिर भला उनका अकेले क्या मज़ा?

मुझे तो ऐसा लगता है कि बहुत सी खूबसूरत यादें चाय के ही इर्द गिर्द बसी हैं. दोस्तों के साथ, अपने खास  चाय के गल्ले पर दुनिया बदलने की रोजाना प्लानिंग, सुबह सुबह परांठे के साथ माँ की बनाई हुई मीठी चाय , ऑफिस के बाहर वाली अच्छी चाय तो ट्रिप पर रास्ते में ढाबे की चाय. गर्मियों की चाय, सर्दियों की चाय, बरसात की चाय या रात की चाय. चाय तो चाय है जनाब उसकी जगह कोई नहीं ले सकता. और याद रखियेगा, चाय से बढती है दोस्ती, चाय से जगता है संसार, क्यूंकि चाय में मिला है चाय बनाने वाले का प्यार.

चाय बनाने वालों को धन्यवाद करना कभी न भूलें, यकीन मानिये यह हर किसी के बस की बात नहीं.



Advertisements

About poornimasardana

Travel and Observations acquaint me with the Existent Pluralities around us and I wish to share those. I indulge in narratives (illustrations, words and pictures), it being my most cherished pursuit.
This entry was posted in Uncategorized. Bookmark the permalink.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s