फिर धूप किनारे

फिर एक दिन ढला
फिर एक रात जगी
उन दोनों के दरमियान
फिर एक शाम खिली
इस धूप किनारे के कुछ पल
जो दिन की लहरों से आये थे
बिन बोले सब जान गए
जो मन में बादल ढाए थे
जब शाम खिली तो मन फिसला
क्यों रात का साया आता है ?
नीला समुन्दर भी कुछ ठहरा
फिर यूँ सोच के बहता जाता है
कि इस धूप किनारे के यह कुछ पल
जो दिन की लहरों से आये थे
यह रहगुज़र हैं
चांदनी के
कल फिर उसी ओर से आएंगे

-पूर्णिमा

Advertisements

About poornimasardana

Travel and Observations acquaint me with the Existent Pluralities around us and I wish to share those. I indulge in narratives (illustrations, words and pictures), it being my most cherished pursuit.
This entry was posted in Uncategorized. Bookmark the permalink.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s